सोमवार, 18 अप्रैल 2011

संतोषी जीवन ( कुछ पढ़ा,कुछ सुना )

पहला सुख निरोगी काया ,
दूजा सुख घर में हो माया,
तीजा सुख सुलक्षणा नारी,
चौथा सुख पुत्र आज्ञाकारी,
पांचवां सुख स्वदेस में वासा
छठा सुख राज में पासा
सांतवा सुख संतोषी जीवन,
यह मिल जाए तो धन्य है जीवन.

हमारे शास्त्रों  में संतोष को सबसे बड़ा सुख बताया गया है.लेकिन मनुष्य का स्वभाव बड़ा अद्भुत है.जो उसके हाथ में रहता है,उसकी कद्र नहीं होती,जो हाथ से चला जाता है ,उसके लिए बहुत आकर्षण रहता है.जो है उससे संतोष नहीं होता ,जो नहीं है उसको मन तरसता रहता है.अपना सुख कोई नहीं गिनता, दुसरे का सब गिनते हैं.दूसरे का दुःख कोई नहीं देखता ,अपना सब देखते हैं,और इसी चक्र में जीवन शान्ति नष्ट हो जाती है और एक शाश्वत अतृप्ति ,एक चिर असंतोष मन में घर कर लेता है.और वही सारी दुखों का कारण बन जाता है.जो मन की शान्ति और संतोष पा लेता है,वही असल में जीता है,वही जीवन संग्राम विजेता है.मन की शान्ति न हो तो सारे सुख वैभव  के बाद भी मनुष्य एक शापित व्यक्ति की तरह संतप्त है सुखहीन है.जीवन के  समस्त धर्म,आत्मज्ञान और नीतिशास्त्र इसी एक मात्र हेतु के लिए ,मन की शान्ति की कुंजी खोज निकालने के लिए प्रयत्नशील रहते हैं,वह जिसे मिल गयी ,वही आत्म ज्ञानी है,वही साधक है.


चाह, गयी चिंता मिटी मनुवा बे परवाह,

जिसको कछु न चाहिए सो जग शहंशाह.

न सुख काजी पंडितां  न सुख भूप भयां,

सुख सहजा ही आवसी तृष्णा रोग गयां.

और अब सुनिए नज़ीर अकबराबादी की बात...


पूरे हैं वो मर्द जो हर हाल में खुश हैं

जो फक्र में हैं पूरे वो हर हाल में खुश हैं,                                            

हर काम में हर वाम में हर चाल में खुश हैं,                                            
गर माल दिया यार ने तो माल में खुश हैं,
बे ज़र जो किया तो उसी अहवाल में खुश हैं,                                           
इफ़्लास में इद्बार में इकबाल  में खुश हैं,                                              
पूरे हैं वो मर्द जो हर हाल में खुश हैं.

                                                     
चेहरे पे मलामत न जिगर में असरे गम                                                

माथे पे कहीं चीं है न अबरू पे कहीं ख़म,                                               
शिकवा न जुबां पर न चश्म हुई नम                                                     

गम में वही ऐश,अलम में भी वही दम                                                 
हर बात में हर औकात में हर अफआल  में खुश हैं,                                 
पूरे हैं वो मर्द जो हर हाल में खुश हैं. 


गर यार की मर्जी हुई सर जोड़ के बैठे,
घर बार छुडाया तो घर छोड़ के बैठे,
मोड़ा उन्हें जिधर वहीं मुंह मोड़ के बैठे,
गुदड़ी जो सिलाई तो वही ओढ़  के बैठे,
और शाल ओढाई तो उसी शाल में खुश  हैं,
पूरे हैं वो मर्द जो हर हाल में खुश हैं. 

गर उसने दिया गम तो गम में रहे खुश

जिस तौर रखा उसने उस आलम में रहे खुश,
खाने को मिला कम तो उसी  कम में रहे खुश,
जिस तरह रखा उसने उसी दम में रहे खुश,
दुःख दर्द में आफ़ात में जंजाल में खुश हैं 
पूरे हैं वो मर्द जो हर हाल में खुश हैं.

गर उसने ओढ़ाया तो लिया ओढ़ दोशाला,

कम्बल जो दिया तो वही काँधे पे संभाला,
चादर जो ओढाई तो वही हो गयी बाला,                                                 
बन्द्वाई जो लंगोटी तो वही हंस के कहा ला,
पौशाक में,दस्तार में,रुमाल में खुश हैं,
पूरे हैं वो मर्द जो हर हाल में खुश हैं. 

गर खाट विछाने को मिली खाट में सोये,

दुकां में सुलाया तो वो जा हाट में सोये,
रस्ते में कहा सो तो वो जा बाट में सोये,
गर टाट बिछाने को दिया टाट में सोये,
और खाल बिछा दी तो खाल में खुश हैं,
पूरे हैं वो मर्द जो हर हाल में खुश हैं .
=========================================
फक्र=फकीरी
वाम=रंग
बे ज़र=गरीब                                         
चीं=शिकन
इफ़्लास=दरिद्रता,
इद्बार=कंगाली,
इकबाल=समृद्धि
अहवाल=हालत
मलामत=शिकायत

35 टिप्‍पणियां:

  1. जय हो जय हो ,विशालानंद जी की जय हो
    संतोष का राज बता,संतोष हम में भरते हैं
    हम न फिसलें इधर उधर,ऐसा ज्ञान प्रस्तुत करते हैं.
    जीवन की भाग दौड़ में,असंतोष हम कमाते हैं
    जब झांक कर अपने अंदर देखें,तभी संतोष पातें हैं

    आपने जो ज्ञानामृत पिलाया है,उसकी हम लाज रख पायें
    यही सच्चा आभार होगा आपकी इस सुन्दर प्रस्तुति के लिए.

    विशाल भाई, नजीर अकबराबादी ने 'मर्द' के बारे में तो लिखा,
    पर औरतों के बारे में भी कुछ लिखा क्या ? हो सके तो दिल की कलम
    से यहाँ कुछ समझाईयेगा.

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह विशाल भाई!!

    बस दिल करता है यह संतोषामृत पिया करूँ!!
    इस प्रस्तुति से आपने हमें उपकृत किया है। अनंत आभार!! साधुवाद!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुन्दर प्रस्तुति..
    बहुत बहुत धन्यवाद आपका..

    उत्तर देंहटाएं
  4. विशाल जी बोले सच्चा सच्चा जी,
    पढने में लगता कितना अच्छा जी
    हमें तो पढने में रब मिलता,
    जग समझे हमें क्यूँ न कच्चा जी
    आपको हार्दिक शुभ कामनाएं !

    उत्तर देंहटाएं
  5. इस प्रस्तुति से आपने हमें उपकृत किया है|धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  6. नमस्कार,
    जाट देवता की राम-राम,
    सबसे बडी बात संतोष जिसे हो जाये वो महान है।

    उत्तर देंहटाएं
  7. Vishal jee,jisane santosh ka sukh chakha hai vahi swad bhi bata sakta hai ,auron ko prerit bhi kar sakta hai..aapka prayas aisa hi hai... jihva ko sadaiv is swad ke liye tatpar rahna chahiye..parantu...........................

    उत्तर देंहटाएं
  8. Amrita Tanmay ji,
    आपकी परन्तु ...सुनने की बहुत उत्सुकता हो रही है.आप क्या कहतें हैं विशाल भाई ?

    उत्तर देंहटाएं
  9. विशाल भाई कहते हैं 'परन्तु' पर अमृता जी ने तो लिखा नहीं ,आप ही कुछ लिखो.अब मै तो पहले ही लिख चुका हूँ विशाल भाई कि आपने 'पूरे मर्द ' के बारे में तो खूब लिखा है 'परन्तु' पूरी महिला के बारे में अभी तक क्यूँ नहीं लिखा.अमृता जी भी इंतजार कर रहीं हैं
    आपके इसके ऊपर लिखने का.आप चाहें तो पूछ लीजियेगा उनसे.

    उत्तर देंहटाएं
  10. विशाल जी आपने बहुत सुन्दर कहा है. जो हर हाल में खुश होते हैं वो पूर्ण होते हैं..

    मेरे ब्लॉग पर आयें, स्वागत है.
    चलने की ख्वाहिश...

    उत्तर देंहटाएं
  11. राजेश जी ने परन्तु के विषय में कहने को कहा तो पुनः आई हूँ .यहाँ का माजरा कुछ और ही है..क्या आपने राजेश जी की बात मान ली है ...वो पूरी महिला वाली ...खैर....आज नेताओं के लोक-लुभावन वादों की तरह ही नैतिकता की बातें हो गयी है..कथनी-करनी में अंतर साफ़-साफ़ दिख जाता है .जब तक ' मन- वचन- कर्म ' एक रेखा में नहीं आएगा तबतक कोई परिणाम नहीं दिखेगा .शायद बातें बहुत हो चुकी है अब करने का समय ही बचा है...अभी हम सचेत नहीं हुए तो कोई बचा नहीं सकता ..इसके लिए आज का स्लोगन - DONT BE SANTUSHAT - को न कहना होगा ..आज की छोटी पहल आने वाली पीढ़ी को सुरक्षित करेगी जो आँख बंद कर दौड़ लगा रही हैं...

    उत्तर देंहटाएं
  12. first few lines are the essence of human life.
    my mom always repeat these lines :)
    its good to see them here

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत सुन्दर और गहरी सोच! साधुवाद!

    "कुछ लोग असाध्य समझी जाने वाली बीमारी से भी बच जाते हैं और इसके बाद वे लम्बा और सुखी जीवन जीते हैं, जबकि अन्य अनेक लोग साधारण सी समझी जाने वाली बीमारियों से भी नहीं लड़ पाते और असमय प्राण त्यागकर अपने परिवार को मझधार में छोड़ जाते हैं! आखिर ऐसा क्यों?"

    यदि आप इस प्रकार के सवालों के उत्तर जानने में रूचि रखते हैं तो कृपया "वैज्ञानिक प्रार्थना" ब्लॉग पर आपका स्वागत है?

    उत्तर देंहटाएं
  14. सुन्दर और सार्थक प्रस्तुति..
    बहुत बहुत धन्यवाद..

    उत्तर देंहटाएं
  15. आपके ब्लॉग पर आकर सुकून का अहसास हुआ!
    एक बेहद सार्थक लेख के लिए आपका आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  16. आपके ब्लॉग पर आकर सुकून का अहसास हुआ!
    एक बेहद सार्थक लेख के लिए आपका आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  17. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  18. आपने तो अपने लेख की अग्रिम पंक्तियों में ही जीवन का सार लिख दिया किन्तु क्या आपको नहीं लगता कि यदि इंसान संतुष्ट हो गया तो शायद जीवन में कभी आगे नहीं बढ़ सकता। क्यूंकि मुझे ऐसा लगता है कि कुछ से कुछ और पाने कि चाह ही जीवन में आगे बढ़ना सिखाती है। यदि हर कोई संतुष्ट हो जाए तो मेरे हिस्साब से वीएच व्यक्ति कभी अपने जीवन में आगे नहीं बढ़ पाएगा।
    समय मिले तो आयेगा मेरी पोस्ट पर आपका स्वागत है
    http://mhare-anubhav.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  19. सार्थक प्रस्तुति...बहुत अच्छा लगा|

    उत्तर देंहटाएं
  20. Of course, what a magnificent website and illuminating posts, I definitely will bookmark your blog.Have an awsome day!…

    From everything is canvas

    उत्तर देंहटाएं
  21. सुन्दर चिंतन युक्त प्रस्तुति -
    "तीजा सुख सुलक्षणा नारी," वह सुमुखि भी हो तो सोने में सुहागा! :)
    कर्कशा तो कदापि न हो ब्लॉगजगत की कुछ स्वनाम्धन्याओं की तरह :)

    उत्तर देंहटाएं
  22. इस पोस्ट के लिए धन्यवाद । मरे नए पोस्ट :साहिर लुधियानवी" पर आपका इंतजार रहेगा ।

    उत्तर देंहटाएं
  23. बहुत दिनों से संतोष कर रहे हैं अध्यात्म पथ पर.
    अब क्या इरादा है विशाल भाई.

    उत्तर देंहटाएं
  24. क्या बात है
    एक दम सही विचार
    बधाई...

    उत्तर देंहटाएं
  25. बहुत बढ़िया लेखन विशाल जी....
    बहुत अच्छे!!!

    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  26. कहाँ हो विशाल भाई.
    अध्यात्म पथ पर क्या साथ नही चलोगे ?

    उत्तर देंहटाएं