शुक्रवार, 25 मार्च 2011

आज के युग में कृष्ण कौन?

आज के युग में कृष्ण आपका सद विवेक ही है.जो आपके मन रूपि अर्जुन को सद्बुद्धि दे सकता है.विवेक को जागृत रखिये सत्संग और सत्साहित्य से.लेकिन सत्साहित्य और सत्संग के समय  भी विवेक की आँखों से ही पढ़िए,विवेक की आँखों से सुनिए.

आज के गुरुढम के युग में भी सबसे बड़ा गुरु भी विवेक ही है.चाहे किसी भी गुरु का अनुसरण करिए लेकिन अपने विवेक का साथ मत छोडिये.जो गुरु विवेक को छोड़  सिर्फ अपना अनुसरण करवाता हो ,आपको सिर्फ अपने  मत का साहित्य पढने की सलाह देता हो आपके  विवेक को हरने की  कोशिश  करता  है 
इसी तरह किसी भी धर्म  को समझना हो तो भी विवेक रूपि  कृष्ण का साथ मत छोडिये.धर्म की स्थानीय  उत्पति को,सामयिक ज्ञान को और रूढीवादिता को समझने  के लिए  आपका विवेक ही आपको जागृत करता है. 

17 टिप्‍पणियां:

  1. विवेक बुद्धि ही मार्गदर्शक है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. जी हां प्रथम सद् गुरु हमारा विवेक ही हैं ,जो सद्-बुद्धि का परिणाम है .विवेक हमारे 'लंका' रुपी अंत:करण में विभीषण की तरह है ,जो यद्धपि अहंकार रुपी रावण का छोटा भाई है ,लेकिन राम से मिलकर रावण का नाश करवा , लंका ढवा देता है और राम की कृपा से फिर लंका पर राज करने में भी समर्थ हो जाता है.

    उत्तर देंहटाएं
  3. .........................................
    आज के वर्तमान व्योस्था में कृष्ण कौन है ?? क्या थोडा प्रकाश डालेंगे विशाल भाई आप
    ............................

    विशाल भाई मैने तो आप से व्यक्तिगत रूप से पूछा था अपनी कविता के सन्दर्भ में...आप ने तो पूरा लेख लिख कर धन्य कर दिया...बहुत सुन्दर लगा कृष्ण की परिभाषा ...चलिए में अब अपने विवेक से ही मार्गदर्शन लेने का प्रयास करूँगा..

    उत्तर देंहटाएं
  4. @आदरणीय सुज्ञ जी,
    आपका स्वागत है अध्यात्म पथ पर.आपकी बोध कथाएँ सदैव मेरा मार्ग दर्शन करती हैं.आभार.

    @आदरणीय राकेशजी,
    आपने बहुत ही बढ़िया परिभाषा दी है,प्रथम गुरु की.आपके मार्गदर्शन के लिए सदा आभारी रहूँगा.

    @आदरणीय आशुतोश्जी,
    आपका धन्यवाद इतना सुन्दर और गूढ़ प्रश्न पूछने के लिए.मैंने जान बूझ कर आप का सन्दर्भ नहीं दिया था क्योंकि आपने व्यक्तिगत रूप से पूछा था.मैं आप का तहे दिल से आभारी हूँ.आलेख तो नहीं लिख पाया हूँ,कुछ विचार रखे हैं .बहुत आनन्दित हूँ कि आपको अच्छा लगा.आपने सच में मेरे विवेक रुपी गुरु को जागृत कर दिया है.फिर से आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  5. विशाल जी नमस्कार ! जी हाँ बिलकुल सही कहा आपने !!प्रथम सद् गुरु हमारा विवेक ही हैं , यही सही और गलत की पहचान करता है. यदि हम कहें की हमारी ही बातें श्रेष्ठ हैं दूसरों की गलत तो यह हमारा कोरा अहंकार ही होगा ये तो हमारा विवेक ही निर्णय करता है......
    बहुत बहुत आभार....

    उत्तर देंहटाएं
  6. सत्य कथन, विशाल जी--विवेक ही वस्तविक्ता से परिचय कराने वाला--क्रिष्ण है, गुरु है, धर्म है.....
    --सत्य कहा राकेश जी ने...वह अहंकार का भाई...क्योंकि दोनों की ही श्रिष्टि मन से होती हैं...

    उत्तर देंहटाएं
  7. जीवन को सार्थकता प्रदान करने वाला लेख...

    'बिनु सत्संग विवेक न होई
    राम कृपा बिनु सुलभ न सोई '

    उत्तर देंहटाएं
  8. आज के युग में कृष्ण आपका सद विवेक ही है.जो आपके मन रूपि अर्जुन को सद्बुद्धि दे सकता है....


    बहुत ही महत्वपूर्ण विचार हैं...मन को ऊर्जा देने वाले...

    उत्तर देंहटाएं
  9. आपको और सभी ब्लोगर जन को विश्व कप जीतने की बहुत बहुत बधाई विशाल भाई,
    देश की एकता का जज्बा सदा बना ही रहे और नित दिन बढे
    विवेक गुरु के आशीर्वाद से अध्यात्म पथ पर भी हम सब एक हो आगे बढ़ें.

    उत्तर देंहटाएं
  10. विवेक बुद्धि ही मार्गदर्शक है।
    नवसंवत्सर की हार्दिक शुभकामनाएँ| धन्यवाद|

    उत्तर देंहटाएं
  11. Vishal jee , ydi vivek ki uttapati ki vyakhya thora kar dete to baaten aur bhi prabhavi ho jaati . vivek kya hai...ham kaise samjhenge ki sahi kya hai..aadi. karan paristhiti janya baaton me vibhed karna mushkil hota hai. achchhi lagi post..aage bhi pratiksha hai..

    उत्तर देंहटाएं
  12. राम नवमी की हार्दिक शुभकामनायें|

    उत्तर देंहटाएं
  13. लगता है इस ब्लाग पर बहुत ग्यानवर्द्धक सामग्री पढने को मिलेगी। विवेक पर कुछ और प्रकाश डालें तो कृपा होगी। धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  14. सही कहा आपने विवेक ही हमें सही गलत में अंतर करना सिखलाता है।

    उत्तर देंहटाएं